September 29, 2022

YouthIndia24x7

देश हमारा खबर आपकी

पुलिस बनाएगी शैक्षिक संस्थानों को रैगिंग फ्री

Share

-कमिश्नरेट पुलिस ने बनाई एंटी रैंगिंग की पूरी कार्ययोजना
-रैगिंग की रोकथाम, उपचार व सजा का बताया जाएगा प्रावधान
-अभियान में सभी शिक्षण संस्थानों को शामिल करेगी पुलिस
-सुरक्षित शिक्षा पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण की दिशा में होगा काम
-अभियान टैगलाइन व हैशटैग रैग नहीं, स्वैग! #RagNahiSwag

यूथ न्यूज़ ब्यूरो,कानपुर: पुलिस कमिश्नरेट कानपुर के सभी शैक्षिक संस्थान रैगिंग फ्री हों। किसी भी छात्र का उत्पीड़न न हो। संस्थानों के परिसर व हास्टलों का माहौल स्वस्थ हो। इस दिशा में कमिश्नरेट पुलिस ने व्यापक कार्ययोजना तैयार की है। इसके तहत छात्रों को रैगिंग से रोकथाम, उपचार व सजा के प्रावधान के प्रति जागरुक किया जाएगा। पुलिस अपनी इस पहल में सभी शैक्षिक संस्थानों को भी शामिल करेगी। इस रैगिंग विरोधी अभियान का एक मात्र उद्देश्य जनपद में एक सुरक्षित शिक्षा पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण की दिशा में मिलकर काम करना है।
 
अभियान के उद्देश्य
·       छात्रों में नए या पुराने हर छात्र के लिए सम्मान की भावना पैदा करना
·       उन्हें ‘स्वागतकर्ता’ की अवधारणा से परिचित कराना अर्थात परिवार (संस्था) में नए छात्र का स्वागत करना और एक मार्गदर्शक और एक बड़े भाई या बहन बनकर उसे नयी जगह से परिचित कराना
·       नए सत्रों की शुरुआत में जुनियर्स की मदद करना । सीनियर्स द्वारा एक बैज या टी-शर्ट पहनकर नए छात्रों को कॉलेज के दौरे के लिए ले जाना ।
·       नये छात्रों के लिए हॉस्टल, पीजी आदि ढूंढने में उनकी मदद करना, उन्हें नाश्ता और चाय/कॉफी कराना…
·       छात्र परामर्शदाता/संरक्षक की अवधारणा को बढ़ावा देना
·       रैगिंग व उसके परिणाम के बारे में छात्रों को जागरूक करना
·       रैगिंग को रोकने में मदद करने वाले विभिन्न उपायों पर प्रकाश डालना। उन्हें आपातकालीन सेवा 112 और उसकी त्वरित प्रतिक्रिया के बारे में जागरूक करना
·       उन्हें आईपीसी और यूजीसी के विनियमों के विभिन्न प्रावधानों और उसमें निर्धारित दंडों से अवगत कराना
 
इस प्रकार होगा क्रियान्वयन 

·       पुलिस आयुक्त, कानपुर नगर द्वारा सोशल मीडिया संदेश, गूगल विज्ञापन
·       कानपुर नगर के प्रत्येक यू.जी. और पी.जी. कॉलेज में मिशन शक्ति के तहत इंटरैक्टिव सत्र आयोजित करना। (छात्रों द्वारा पूछे जा सकने वाले प्रश्नों का एक सेट तैयार करें। उदाहरण के लिए “क्या होगा यदि कोई मेरे खिलाफ रैगिंग का झूठा आरोप लगाता है?”)
·       हस्ताक्षर अभियान । सभी छात्रों द्वारा एक बड़े फ्लेक्स पर हस्ताक्षरित प्रतिज्ञा
·       सभी प्रमुख समाचार पत्रों के कानपुर एडिशन में समाचार पत्र विज्ञापन का प्रकाशन
·       सभी रेडियो स्टेशनों के साथ पुलिस आयुक्त और अन्य संबंधित अधिकारियों का साक्षात्कार
·       सभी शिक्षण संस्थानों (छात्रावास, कैफेटेरिया, पार्किंग, आदि) के विभिन्न स्थानों पर पोस्टर में आपातकालीन नंबर 112 और मदद के लिए सोशल मीडिया हैंडल का उल्लेख है
·      दो पहिया पीआरवी द्वारा साप्ताहिक गश्त करके छात्रों के साथ मिल कर हाल चाल लेना


सभी शैक्षिक संस्थानों के साथ मिलकर कमिश्नरेट पुलिस द्वारा वहां शिक्षा का स्वस्थ माहौल बनाना है, जहां पर भय और उत्पीड़न जरा भी न हो। इसके लिए जल्द ही अभियान मूर्तरूप लेगा।-
असीम अरुण, पुलिस आयुक्त, कानपुर नगर।